Skip to content
Home » ऐसो चटक मटक सो ठाकुर |Aiso Chatak Matak So Thakur lyrics

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर |Aiso Chatak Matak So Thakur lyrics

  • Bhajan
ऐसो_चटक_मटक_सो_ठाकुर_Aiso_Chatak_Matak_So_Thakur_lyrics

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर |Aiso Chatak Matak So Thakur lyrics :–>ये सूंदर भजन देवी हेमलता शास्त्री जी द्वारा गायन किया गया | इसमें लाड़ली जो जाने शमा शाम जी की उसतत की गई है |

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर |Aiso Chatak Matak So Thakur lyrics

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|
ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

तीनों लोकन हूँ में नाय,
तीनों लोकन हूँ में नाय,

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

तीन ठौर ते टेढ़ो दिखे
नट किसी चलगत यह सीखे|
टेड़े नैन चलावे तीखे
सब देवन को देव, सब देवन को देव|
ताऊ ये ब्रज में घेरे गाय

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

ब्रह्मा मोह कियो पछतायो
दर्शन को शिव ब्रज में आयो|
मान इंद्र को दूर भगायो
ऐसो वैभव वारो, ऐसो वैभव वारो|
ताऊ ये ब्रज में गारी खाए

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय

बड़े बड़े असूरन को मारयो
नाग कालिया पकड़ पछाड़ो|
सात दिना तक गिरिवर धारयो
ऐसो बलि ताऊ, ऐसो बलि ताऊ|
खेलत में ग्वालन पे पीट जाय,

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय

रूप छबीलो है ब्रज सुंदर
बिना बुलाए डोले घर घर|
प्रेमी ब्रज गोपीन को चाकर
ऐसो प्रेम बढ्यो, ऐसो प्रेम बढ्यो|
माखन की चोरी करवे जाए

ऐसो ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

ऐसो ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

तीनों लोकन हूँ में नाय,
तीनों लोकन हूँ में नाय,

हो सखी, ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|

ऐसो चटक मटक सो ठाकुर
तीनों लोकन हूँ में नाय|
ऐसो चटक मटक सो ठाकुर

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.