Home » ॐ जय ज्वाला माता आरती |Om Jai Jwala Devi Aarti

ॐ जय ज्वाला माता आरती |Om Jai Jwala Devi Aarti

  • Aarti
ॐ_जय_ज्वाला_माता_आरती_Om_Jai_Jwala_Devi_Aarti_

ॐ जय ज्वाला माता आरती |Om Jai Jwala Devi Aarti :->ज्वाला माता जी की आरती को गायन करने से सभी अमंगल का नाश होता है और भक्त माँ की अनुकम्पा का अनुभव करता है |

ॐ जय ज्वाला माता आरती |Om Jai Jwala Devi Aarti| Jwala mata Aarti

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई …*2

मैया जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

अटल अखंड तेरी ज्योति, युग युग से ही जगे ,
ऋषि मुनि सुर नर सबको, बड़ी प्यारी माँ लागे |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

पार्वती रूप शिव शक्ति, तू ही माँ अम्बे ,
पूजे तुम्हे त्रिभुवन के, देवता जगदम्बे |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

लाखों सूरज फीके ज्योति तेरी आगे ,
तेरे चिंतन से माँ भवका भय भागे |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

चरण शरण में चल के जो तेरे द्वारे आये ,
खाली कभी न जाए, वांछित फल पाए |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

दुर्गति नाशक चंडिका, तू दानव दलनी ,
दिन हिन् की रक्षक तू ही सुख करनी |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

आठों सिद्धियाँ तेरे द्वार भरे पानी ,
दान माँ तुझसे लेते बड़े बड़े महादानी |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

चरण कमल तेरी धोकर, ध्यानु ने रस था पिया ,
तेरी धुन में खोकर, शीश तेरे भेंट किया |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

भक्तों के काज असंभव, संभव तू करती ,
सुख रत्नों से सबकी झोलियाँ तू भरती |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

धुप दीप पुष्पों से होए तेरा अभिषेक ,
तेरे दर रंक को राजा बनते हुए देखा |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

अष्ट भुजी सिंह वाहिनी तू माँ रुद्राणी ,
धन वैभव यश देना हमको महारानी |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

ज्योति बुझाने आये, राजे अभिमानी ,
हार गए वो तुमसे, मूढ़ मति अज्ञानी |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

माई ज्वाला तेरी आरती श्रद्धा से जो गाये ,
वो निर्दोष उपासक, भव से तर जाए |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुखदायी |

ॐ जय ज्वाला माई, मैया जय ज्वाला माई ,
कष्ट हरण तेरा अर्चन, सुमिरण सुख दाई |

Om Jai Jwala Devi Aarti pdf

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *