Skip to content
Home » राम नाम के चमत्कार | Ram Naam ke chmatkaar

राम नाम के चमत्कार | Ram Naam ke chmatkaar

राम नाम के चमत्कार | Ram Naam ke chmatkaar :->कहां गया है? राम से बड़ा राम का नाम। हमारे ऋषि मुनि विद्वान सब ram naam का नाम जपने का परामर्श देते हैं। गोस्वामी तुलसीदास जी ओमकार रूपा राम नाम की वंदना करते हैं। जो वेद का प्राण है। राम नाम की भरपूर प्रशंसा उन्होंने की है।

राम नाम के चमत्कार | Ram Naam ke chmatkaar | Ram Naam

जिससे नाम को भगवान शिव की जपते हैं। काशी में Bhagwan Shiv राम नाम के प्रताप से मुक्ति देते हैं | राम नाम की महिमा गाते हैं।

और शास्त्रों में राम नाम की महिमा | तुलसी का सारा दर्शन काल राम नाम पर आधारित है। नाम जपने से बाल्मीकि को ब्रह्म पद की पदवी प्राप्त होती है। राम नाम का स्मरण करने से गणपति पहले पूजा जाते हैं।

जो पिता ने गोद में ना बैठने दिया तो ध्रुव जी बहुत दुखी हुए। राम नाम जपने से उन्हें उत्तम स्थान मिला। प्रह्लाद पर परमात्मा की कृपा हुई।

कलयुग में राम नाम महिमा श्रेष्ठ है। तुलसीदास लिखते हैं। राम ने एक अहिल्या का उद्धार किया। आज उनके नाम से कितनी कुमति सुधर गई। राम ने एक शिव धनुष तोड़ा। जबकि उसके नाम से कितने अहंकार रूपी धनुष टूट गए। राम ने सेतु बांधा। उसके नाम से कितने जी भवसागर पर सेतु बांध कर उसे पार कर गए। राम ने रावण को मारा। राम नाम ने कितने साधकों के विकार रूपी दलों का नाश किया। राम ने राम राज्य स्थापित किया उनके भक्तों ने अपने हृदय में राम राज्य स्थापित किया है।

राम नाम के चमत्कार नहीं तो और क्या है? कलयुग में सत्य का आचरण और राम नाम का स्मरण करने से बड़ी दुनिया में कोई शक्ति नहीं। जो उसे पराजित कर सके। इसलिए ही संत गण राम नाम का आश्चर्य लेते हैं और परामर्श देते हैं।

Ram ka shabd roop राम का शब्द रूप अगर ध्यान केंद्रित कर कर रामनाम का जाप किया जाए तो भगवान राम के ब्रह्म वाक्य की भक्तों को अनुभूति होती है। राम के नाम की जितनी गुणगान करे जाए वह उतनी कम है। राम नाम की महिमा का वर्णन शब्दों में करना असंभव है।

राम नाम जप से लाभ | Ram Naam japne ke laab :-

राम नाम जपने के लाभों का वर्णन करना असंख्य मोती को गिनने के बराबर है। अगर ध्यान मात्र से 1 मिनट भी राम नाम का जप हो जाए तो इंसान जन्मो जन्म आंतों के बंधनों से मुक्त हो जाता है।

A :- जमीन से लेकर आसमान तक कोई तंत्र मंत्र आधी व्याधि भूत पिचास डाकनी नवग्रह कोई भी उस जातक को तंग नहीं कर सकते।

B :- राम शब्द रूप ही भ्रम वाक्य है। इसे जपने से इंसान के सभी कुष्ठ रोग दुख आधी व्याधि दूर हो जाते हैं।

C :- राम नाम का वाक्य होता है वहां पर हनुमान जी अवश्य होते हैं और जिससे राम नाम के साथ-साथ हनुमान जी की कृपा का भी फल सबको मिलता है।

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.