Skip to content
Home » येषां न विद्या न तपो न दानं | Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan

येषां न विद्या न तपो न दानं | Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan

  • Stotram

येषां न विद्या न तपो न दानं | Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan :- यह चाणक्य नीति व्यक्ति के जीवन में विशेष रास्ता बताने के लिए मदद करती है।

येषां न विद्या न तपो न दानं | Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan

येषां न विद्या न तपो न दानं,
ज्ञानं न शीलं न गुणो न धर्मः ।
ते मर्त्यलोके भुविभारभूता,
मनुष्यरूपेण मृगाश्चरन्ति ॥ 

हिन्दी भावार्थ:
जिन लोगों के पास न तो विद्या है, न तप, न दान, न शील, न गुण और न धर्म।
वे लोग इस पृथ्वी पर भार हैं और मनुष्य के रूप में मृग/जानवर की तरह से घूमते रहते हैं।

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.