Home » माँ बगलामुखी आरती Maa Baglamukhi Aarti lyrics

माँ बगलामुखी आरती Maa Baglamukhi Aarti lyrics

  • Aarti
माँ_बगलामुखी_आरती_Maa_Baglamukhi_Aarti_lyrics

माँ बगलामुखी आरती Maa Baglamukhi Aarti lyrics–माँ बगलामुखी दस महाविद्या में से एक है ! माँ बगुला पक्षी की सवारी करते है जोह की एक ज्ञान का भी प्रतिक है माँ पिलाह रंग अति प्रिय है माँ का सिद्ध पीठ हिमाचल प्रदेश में नियर काँगड़ा स्थित है माँ के भक्त इस आरती का गायन कर माँ को खुश करते है !

माँ बगलामुखी आरती

जय जय श्री बगलामुखी माता,
आरती करहूँ तुम्हारी |

पीत वसन तन पर तव सोहै,
कुण्डल की छबि न्यारी |
कर कमलों में मुद्गर धारै,
अस्तुति करहिं सकल नर नारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता….

चम्पक माल गले लहरावे,
सुर नर मुनि जय जयति उचारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता

त्रिविध ताप मिटि जात सकल सब,
भक्ति सदा तव है सुखकारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता….

पालन हरत सृजत तुम जग को,
सब जीवन की हो रखवारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता……

मोह निशा में भ्रमत सकल जन,
करहु ह्रदय महँ, तुम उजियारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता……

तिमिर नशावहू ज्ञान बढ़ावहु,
अम्बे तुमही हो असुरारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता……

सन्तन को सुख देत सदा ही,
सब जन की तुम प्राण प्यारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता…..

तव चरणन जो ध्यान लगावै,
ताको हो सब भव – भयहारी |

जय जय श्री बगलामुखी माता……

प्रेम सहित जो करहिं आरती,
ते नर मोक्षधाम अधिकारी ||

जय जय श्री बगलामुखी माता-……

दोहा

बगलामुखी की आरती, पढ़ै सुनै जो कोय |
विनती कुलपति मिश्र की, सुख सम्पति सब होय ||

माँ बगलामुखी आरती Maa Baglamukhi Aarti lyrics

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata,
Aarti Karahun Tumhari.
Jay Jay Shri Baglamukhi Mata,
Aarti Karahun Tumhari.

Peet Vasan Tan Par Tav Sohe,
Kundal Ki Chavi Nyari.
Kar Kamalon Me Mudgar Dhaare,
Astuti Karahin Sakal Nar Naari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Champak Maal Gale Lahrawe,
Sur Nar Muni Jay Jayati Uchari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Trividh Taap Miti Jaat Sakal Sab,
Bhakti Sada Tav Hai Sukhkaari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata…..

Paalan Harat Srijat Tum Jag Ko,
Sab Jiwan Ki Ho Rakhwari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Moh Nisha Me Bhramat Sakal Jan,
Karahu Hriday Mah, Tum Ujiyaari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Timir Nashawahu Gyan Badhawahu,
Ambe Tumahi Ho Asurari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Santan Ko Sukh Det Sada Hi,
Sab Jan Ki Tum Praan Pyari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Tav Charanan Jo Dhyan Lagawe,
Taako Ho Sab Bhav – Bhayhaari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……

Prem Sahit Jo Karahi Aarti,
Te Nar Mokshdhaam Adhikari.

Jay Jay Shri Baglamukhi Mata……..

Doha

Baglamukhi Ki Aarti, Padhe Sune Jo Koy,
Vinati Kulpati Mishra Ki, Sukh Sampati Sab Hoy

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *