Skip to content
Home » जयति जयति जग निवास| Jayati Jayati Jag Niwaas

जयति जयति जग निवास| Jayati Jayati Jag Niwaas

  • Bhajan
जयति_जयति_जग_निवास_Jayati_Jayati_Jag_Niwaas

जजयति जयति जग निवास| Jayati Jayati Jag Niwaas :–यह सूंदर आरती भगवन शिव की उसतत की गए गई | यह भजन दिनेश कुमार जी द्वारा गायन किया गया है |

जयति जयति जग निवास| Jayati Jayati Jag Niwaas lyrics

जयति जयति जग-निवास,
शंकर सुखकारी ॥

अजर अमर अज अरूप,
सत चित आनंदरूप ।
व्यापक ब्रह्मस्वरूप,
भव! भव-भय-हारी ॥

जयति जयति ……

शोभित बिधुबाल भाल,
सुरसरिमय जटाजाल ।
तीन नयन अति विशाल,
मदन-दहन-कारी ॥

जयति जयति ……

भक्तहेतु धरत शूल,
करत कठिन शूल फूल ।
हियकी सब हरत हूल,
अचल शान्तिकारी ॥

जयति जयति ……

अमल अरुण चरण कमल,
सफल करत काम सकल ।
भक्ति-मुक्ति देत विमल,
माया-भ्रम-टारी ॥

जयति जयति ……

कार्तिकेययुत गणेश,
हिमतनया सह महेश ।
राजत कैलास-देश,
अकल कलाधारी ॥

जयति जयति ……

भूषण तन भूति व्याल,
मुण्डमाल कर कपाल ।
सिंह-चर्म हस्ति खाल,
डमरू कर धारी ॥

जयति जयति ……

अशरण जन नित्य शरण,
आशुतोष आर्तिहरण ।
सब बिधि कल्याण-करण,
जय जय त्रिपुरारी ॥

जयति जयति जग-निवास,
शंकर सुखकारी ॥

हर हर महादेव

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.