Skip to content
Home » चढ़ता सूरज धीरे धीरे  | Chadta Suraj Dheere Dheere  lyrics

चढ़ता सूरज धीरे धीरे  | Chadta Suraj Dheere Dheere  lyrics

  • Bhajan

चढ़ता सूरज धीरे धीरे  | Chadta Suraj Dheere Dheere  lyrics :->

Song Name – Chadhta Suraj Dheere Dheere Dhalta hai Dhal Jayega
Original Singer – Aziz Naza
Music Director – Aziz Naza
Lyrics – Qaisar Ratnagiri
Singer – Manoj Gwalior
“Intro music by longzijun”

चढ़ता सूरज धीरे धीरे  | Chadta Suraj Dheere Dheere  lyrics

आज जवानी पर इतराने वाले कल पछतायेगा
चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा
ढल जायेगा ढल जायेगा…||

तू यहाँ मुसाफिर है ये सराये फानी है
चार दिन की मेहमां ये तेरी जिंदगानी है||

ज़र जमी ज़र जेवर कुछ ना साथ जायेगा
खाली हाथ आया है खाली हाथ जायेगा||

जानकर भी अंजाना बन रहा है दीवाने
अपनी उम्र ए फानी पर तन रहा है दीवाने||

किस कदर तू खोया है इस जहान के मेले में
तू खुदा को भुला है फंस के इस झमेले में||

आज तक ये देखा है पाने वाला खोता है
जिंदगी को जो समझा जिन्दगी पे रोता है||

मिटनेवाली दुनिया का एतबार करता है
क्या समझ के तू आखिर इसे प्यार करता है||

अपनी अपनी फ़िक्र में जो भी है वो उलझा है
जिंदगी हकीकत में क्या है कौन समझा है||

आज समझले …
आज समझले कल ये मौका हाथ न येरे आयेगा
ओ गफ़लत की नींद में सोनेवाले धोखा खायेगा
चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा||

मौत ने ज़माने को ये समा दिखा डाला
कैसे कैसे रुस्तम को खाक में मिला डाला||

याद रख सिकंदर के हौसले तो आली थे
जब गया था दुनिया से दोनों हाथ खाली थे||

कल जो तनके चलते थे अपनी शानों शौकत पर
शमा तक नही जलती आज उनकी तुरबत पर||

जैसी करनी….
जैसी करनी वैसी भरनी आज किया कल पायेगा
सरको उठाकर चलनेवाले एक दिन ठोकर खायेगा
चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा||

मौत सबको आनी है कौन इससे छुटा है
तू फना नही होगा ये ख्याल झूठा है

साँस टूटते ही सब रिश्ते टूट जायेंगे
छिनकर तेरी दौलत तुझको भूल जायेंगे||

क्यों फ़साये बैठा है जान अपनी मुश्किल में
दम का क्या भरोसा है जाने कब निकल जाये||

मुट्ठी बांधके आने वाले….
मुट्ठी बांधके आने वाले हाथ पसारे जायेगा
धन दौलत जागीर से तूने क्या पाया क्या पायेगा
चढ़ता सूरज धीरे धीरे ढलता है ढल जायेगा ||

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.