Skip to content
Home » ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों द्विज ब्रह्म तेजधारी | Brahman Swarastra Mein Hon lyrics

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों द्विज ब्रह्म तेजधारी | Brahman Swarastra Mein Hon lyrics

  • Bhajan

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों द्विज ब्रह्म तेजधारी | Brahman Swarastra Mein Hon lyrics :->हमारे देश में वेद के ज्ञान के लिए प्रसिद्ध ब्राह्मण पैदा हो; वहाँ एक राजकुमार, वीर, कुशल धनुर्धर, शत्रु को बाणों से भेदने वाला, एक शक्तिशाली योद्धा पैदा हो; गौ (गाय) प्रचुर मात्रा में दूध देती है, बैल बोझ उठाने में कुशल, तेज दौड़ने वाला; सर्वांगीण सकारात्मक गुणों वाली मिलनसार महिला। बादल हमारी इच्छा के अनुसार बरसें; हमारे फल देने वाले पेड़ पक जाएं। ॐ शांतिः… शांतिः.. शांतिः

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों द्विज ब्रह्म तेजधारी | Brahman Swarastra Mein Hon lyrics

ब्रह्मन्! स्वराष्ट्र में हों
द्विज ब्रह्म तेजधारी
क्षत्रिय महारथी हों
अरिदल विनाशकारी |

होवें दुधारू गौएँ
पशु अश्व आशुवाही
आधार राष्ट्र की हों
नारी सुभग सदा ही |

बलवान सभ्य योद्धा
यजमान पुत्र होवें
इच्छानुसार वर्षें
पर्जन्य ताप धोवें |

फल-फूल से लदी हों
औषध अमोघ सारी
हों योग-क्षेमकारी
स्वाधीनता हमारी |

Brahman Swarastra Mein Hon lyrics

ॐ आ ब्रह्मन् ब्राह्मणो ब्रह्मवर्चसी जायतामास्मिन् राष्ट्रे
राजन्य: इषव्य: शूरो महारथो जायताम् दोग्ध्री धेनु: वोढा ऽनडवान्
आशु: सप्ति: पुरन्ध्रि: योषा जिष्णू रथेष्ठा: सभेयो युवास्य यजमानस्य
वीरो जायताम् निकामेतिकामे न: पर्जन्यो वर्षतु फलवत्यो न
ओषधय: पच्यन्तां योगक्षेमो न: कल्पताम् ।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः

ईश्वर ! हमारे स्वराष्ट्र में हों उत्पन्न ब्रह्मतेजधारी ।
शूर, बाणवेधन में कुशल क्षत्रिय महारथी हों अरिदल विनाशकारी ।
होवें दुधारू गौवें पशु अश्व आशुवाही आधार राष्ट्र की हों
नारी सुभग सुशील और सर्वगुण सम्पन्न सदा ही ।
बलवान सभ्य योद्धा यजमान पुत्र होवें ।
आवश्यकतानुसार समय-समय पर मेघ वर्षा करें ।
फ़सलें और औषधियाँ फल-फूल से लदी होकर परिपक्वता प्राप्त करें ।
हो योगक्षेमकारी, स्वाधीनता हमारी । योगेश्वर दिनस्य शुभाषयाः ।।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः

Must read below

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *