Skip to content
Home » Are Dwarpalo Kanhaiya Se Kehdo Lyrics

Are Dwarpalo Kanhaiya Se Kehdo Lyrics

अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो | Are Dwarpalo Kanhaiya Se Kehdo Lyrics :->यह सूंदर भजन लखविंदर सिंह लाख जी द्वारा गायन किया गया है| इससे सुनने मात्र से भगवन कृष्णा की और सुदामा जी की मित्रता की दोस्ती बारे पता लगदा है

अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो | Are Dwarpalo Kanhaiya Se Kehdo Lyrics

देखो देखो ये गरीबी,
ये गरीबी का हाल ।
कृष्ण के दर पे,
विश्वास लेके आया हूँ ।।

मेरे बचपन का यार है,
मेरा श्याम ।
यही सोच कर मैं,
आस कर के आया हूँ ।।

अरे द्वारपालों,
कन्हैया से कह दो ।
अरे द्वारपालों,
कन्हैया से कह दो ।।

के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

भटकते भटकते,
ना जाने कहां से ।
भटकते भटकते,
ना जाने कहां से ।।

तुम्हारे महल के,
करीब आ गया है ।
तुम्हारे महल के,
करीब आ गया है ।।

ना सर पे है पगड़ी,
ना तन पे हैं जामा ।
बता दो कन्हैया को,
नाम है सुदामा ।।

बता दो कन्हैया को,
नाम है सुदामा ।
बता दो कन्हैया को,
नाम है सुदामा ।।

ना सर पे है पगड़ी,
ना तन पे हैं जामा ।
बता दो कन्हैया को,
नाम है सुदामा ।।

हो..ना सर पे है पगड़ी,
ना तन पे हैं जामा ।
बता दो कन्हैया को,
नाम है सुदामा ।।

बता दो कन्हैया को ।
नाम है सुदामा ।।

इक बार मोहन,
से जाकर के कह दो ।
तुम इक बार मोहन,
से जाकर के कह दो ।।

के मिलने सखा,
बदनसीब आ गया है ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

हो.. अरे द्वारपालों,
कन्हैया से कह दो ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

के दर पे सुदामा ।
गरीब आ गया है ।।

सुनते ही दौड़े,
चले आये मोहन ।
लगाया गले से,
सुदामा को मोहन ।।

लगाया गले से,
सुदामा को मोहन ।
लगाया गले से,
सुदामा को मोहन ।।

सुनते ही दौड़े,
चले आये मोहन ।
लगाया गले से,
सुदामा को मोहन ।।

सुनते ही दौड़े,
चले आये मोहन ।
लगाया गले से,
सुदामा को मोहन ।।

लगाया गले से ।
सुदामा को मोहन ।।

हुआ रुक्मणि को,
बहुत ही अचम्भा ।
हुआ रुक्मणि को,
बहुत ही अचम्भा ।।

ये मेहमान कैसा,
अजीब आ गया है ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

अरे द्वारपालों,
कन्हैया से कह दो ।
दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

के दर पे सुदामा ।
गरीब आ गया है ।।

बराबर में अपने,
सुदामा बैठाये ।
चरण आंसुओ से,
श्याम ने धुलाये ।।

चरण आंसुओ से,
श्याम ने धुलाये ।
चरण आंसुओ से,
श्याम ने धुलाये ।।

बराबर में अपने,
सुदामा बैठाये ।
चरण आंसुओ से,
श्याम ने धुलाये ।।

बराबर में अपने
सुदामा बैठाये ।
चरण आंसुओ से
श्याम ने धुलाये ।।

चरण आंसुओ से ।
श्याम ने धुलाये ।।

ना घबराओ प्यारे,
जरा तुम सुदामा ।
ना घबराओ प्यारे,
जरा तुम सुदामा ।।

खुशी का समा तेरे,
करीब आ गया है ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

हो.. अरे द्वारपालों,
कन्हैया से कह दो ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

के दर पे सुदामा ।
गरीब आ गया है ।।

के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।
के दर पे सुदामा,
गरीब आ गया है ।।

are dwarpalo lyrics

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *