Skip to content
Home » वर दे वीणा वादिनि वर दे | Var De Veena Vadini Var De lyrics

वर दे वीणा वादिनि वर दे | Var De Veena Vadini Var De lyrics

  • Bhajan

वर दे वीणा वादिनि वर दे | Var De Veena Vadini Var De lyrics :->एक सिद्ध सरस्वती पुत्र जब अपनी मॉं से प्रार्थना करे तो उस शब्द-संयोजन का सौंदर्य स्वत: शतगुणित हो जाता है। शब्द-पूर्वज निराला कृत यह निराली सरस्वती वंदना तर्पण के रूप में वाणी के उस अक्खड़ अलबेले अवधूत सूर्यकांत त्रिपाठी निराला जी को सादर समर्पित है ! सुनें और सुनवायें ! वर दे वीणावादिनी वर दे|

वर दे वीणा वादिनि वर दे | Var De Veena Vadini Var De lyrics| dr kumar vishwas

वर दे, वीणावादिनि वर दे ।
प्रिय स्वतंत्र रव, अमृत मंत्र नव
भारत में भर दे ।
वीणावादिनि वर दे ॥
काट अंध उर के बंधन स्तर
बहा जननि ज्योतिर्मय निर्झर
कलुष भेद तम हर प्रकाश भर
जगमग जग कर दे ।
वर दे, वीणावादिनि वर दे ॥

नव गति, नव लय, ताल छंद नव
नवल कंठ, नव जलद मन्द्र रव
नव नभ के नव विहग वृंद को,
नव पर नव स्वर दे ।
वर दे, वीणावादिनि वर दे ॥

वर दे, वीणावादिनि वर दे।
प्रिय स्वतंत्र रव, अमृत मंत्र नव
भारत में भर दे ।
वीणावादिनि वर दे ॥

Read Also- यह भी जानें

  1. बााबा नेने चलियौ हमरो अपन नगरी | Baba Nene Chaliyo Hamaro Apan Nagari
  2. Prabhu Ji Mere Awgun Chit Na Dharo lyrics
  3. ये माया तेरी बहुत कठिन है राम | Ye Maya Teri Bahut Kathin Hai Ram

Leave a Reply

Your email address will not be published.