Home » श्री गणेश मंत्र |Vakratunda Mahakaya Ganesh Shlok

श्री गणेश मंत्र |Vakratunda Mahakaya Ganesh Shlok

  • Stotram

श्री गणेश मंत्र |Vakratunda Mahakaya Ganesh Shlok :->यह श्लोक अथवा मंतर भगवन गणेश जी की स्तुति है है | हर पूजा के आरम्ब सब से पहले इस शुल्क

श्री गणेश मंत्र |Vakratunda Mahakaya Ganesh Shlok

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥

हिन्दी रूपांतरण:
वक्रतुण्ड: घुमावदार सूंड
महाकाय: महा काया, विशाल शरीर
सूर्यकोटि: सूर्य के समान
समप्रभ: महान प्रतिभाशाली
निर्विघ्नं: बिना विघ्न
कुरु: पूरे करें
मे: मेरे
देव: प्रभु
सर्वकार्येषु: सारे कार्य
सर्वदा: हमेशा, सदैव

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *