Skip to content
Home » जब राम बिरजें मन में मेरे | Jab Ram Birajein Mann Mein Mere

जब राम बिरजें मन में मेरे | Jab Ram Birajein Mann Mein Mere

जब_राम_बिरजें_मन_में_मेरे_Jab_Ram_Birajein_Mann_Mein_Mere

जब राम बिरजें मन में मेरे | Jab Ram Birajein Mann Mein Mere :-यह सुंदर भजन album DHUN LAGA LE RE उसमें से लिया गया है  इस भजन के गायक का नाम वशिष्ट बंधु है और  इसके music direactor का नाम वशिष्ट बंधु है इसके लिरिक्स भी वशिष्ट बंधु ही नहीं लिखे हैं यह गाना  भक्ति भाव को बढ़ाने वाला है और राम जी के प्रति श्रद्धा भाव भी बढ़ाने वाला 

जब राम बिरजें मन में मेरे | Jab Ram Birajein Mann Mein Mere

जब राम बिरजें मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा ||

जब राम बिरजें मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा ||

जब राम बिरजें मन में मेरे
फिर घोर काली का डर कैसा ||

जब अमृत सागर नाम पिया
फिर जग की जहर से दर कैसा ||

जब राम बिराजे मन में मेरे ||

वो कथा आजमिल की प्यारे
बटलाये प्रभु सबको तारे ||

बस आधे नाम से मनवा मेरे
खुल जाये द्वार उनके सारे ||

जब नाम का उजियाला फैलो
फिर मोह निशा से डर कैसा

जब राम बिराजे मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा
जब राम बिराजे||

हो ध्रुव मीर प्रह्लाद सारे
अपने ही पराए हुए प्यारे ||

प्रति है संदेश ही एक
हरि नाम ही जो सब को तारे
जब नाम जप विश्वास भार
फिर होगा किसी दर कैसा ||

जब राम बिरजें मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा
अब राम बिराजे

मन मीट मेरे अवसर है याही
एक बार भजन में डूब सही ||

नयानो में बस ले छवि उनकि
हर और तुझे देखेंगे वही ||

जब मन श्री राम में राम ही गया
फिर विषय की ज्वार से दर कैसा ||

जब राम बिराजे मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा
जब राम बिराजे||

जब राम बिराजे मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा ||

जब अमृत सागर नाम पिया
फिर जग की जहर से दर कैसा ||

जब राम बिरजें मन में मेरे
फ़िर घोर काली का डर कैसा ||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere Lyrics

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere
Phir Ghor Kali Ka Darr Kaisa||

Jab Amrat Sagar Naam Piya
Phir Jag Ki Jahar Se Dar Kaisa||

Jab Ram Biraje Mann Mein Mere||

Vo Katha Aajamil Ki Pyare
Batlaye Prabhu Sabko Taare||

Bus Aadhe Naam Se Manva Mere
Khul Jaye Dwar Unke Saare||

Jab Naam Ka Ujiyala Phaila
Fir Moh Nisha Se Darr Kaisa

Jab Ram Biraje Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa
Jab Ram Biraje||

Ho Dhruv Meer Prahlad Saare
Apne Hi Paraye Hue Pyare||

Per Hai Sandesh Hi Ek
Hari Naam Hi Jo Sab Ko Taare
Jab Naam Japa Vishvash Bhara
Phir Hoga Kisse Dar Kaisa ||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa
ab Ram Biraje

Mann Meet Mere Avasar Hai Yahi
Ek Baar Bhajan Mein Doob Sahi||

Nayano Mein Basa Le Chhavi Unki
Har Aur Tujhe Deekhenge Vahi||

Jab Mann Shri Ram Mein Ram Hi Gaya
Fir Vishaya Ki Jwar Se Dar Kaisa ||

Jab Ram Biraje Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa
Jab Ram Biraje||

Jab Ram Biraje Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa||

Jab Amrat Sagar Naam Piya
Fir Jag Ki Jahar Se Dar Kaisa||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere
Fir Ghor Kali Ka Darr Kaisa ||

Jab Ram Birajein Mann Mein Mere PDF

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.