Skip to content
Home » श्री चिंतपूर्णी देवी धाम | chintpurni mata mandir

श्री चिंतपूर्णी देवी धाम | chintpurni mata mandir

  • Mandir
श्री_चिंतपूर्णी_देवी_धाम|_Shree_chintpurni_devi_dham

श्री चिंतपूर्णी देवी धाम | chintpurni mata mandir :—> यह है माता भगवती छिन्नमस्ता देवी का पुराना मंदिर। सनातन धर्म के एक पवित्र ग्रंथ श्री मार्कंडेय पुराण के अनुसार, सभी असुरों के वध के बाद और बड़े युद्ध में जीत के बाद, माँ भगवती की 2 ‘सहयोगिनी’, जया और विजया, जिन्होंने विभिन्न असुरों को मार डाला और उनका खून पी लिया था, अभी भी और खून के पियास नहीं भुज रहे थी थे।

तो माँ ने अपना सिर काट लिया और अपने ही खून से अपनी सहयोगिनी की प्यास बुझाई। तब से, माँ भगवती के इस रूप को माँ छिन्नमस्तिका या माता छिन्नमस्ता कहा जाने लगा।

श्री चिंतपूर्णी देवी धाम | chintpurni mata mandir

महादेव करते है माँ कि रक्षा:-

पुराने ग्रंथों, पुराणों और अन्य धार्मिक पुस्तकों के अनुसार, यह भी उल्लेख किया गया है कि मां छिन्नमस्तिका के धाम या स्थान या मंदिर की रक्षा भगवान रुद्र महादेव करेंगे। इसलिए इस जगह का उस धाम/मंदिर होने का एक सटीक तर्क है।

इसके चारों तरफ महादेव का मंदिर हैयह चारो मंदिर  पूरा २१ किलोमीटर दूरी पर स्तिथ है |ज्यादातर जोह भक्त माँ के दर्शन करने आता है वह बाद में जहाँ दर्शन करने अबश्य हे जाते है |

- कालीनाथ  कालेश्वर महादेव मंदिर 
 -नारायण महादेव  मंदिर 
- मुछकुण्ड महादेव मंदिर 
- शिव बाड़ी 

chintpurni mata मेलो के दिन:-

jai_chintpurni_maa
हर साल माता के मेले श्रवण मास्स  के बीच आते है और फिर बहुत से लोग अपने चालो को साथ नेह माँ के दर्शन करने जाते है |माना जाता है  कि  मेलो के आठवे दिन जानी अष्टमी वाले दिन माँ के दुबार  पेय सभी नो बहने ( वैष्णो  माता, विजेशवर  माता ,चामुंडा माता , मनसा देवी ,   ज्वाला माता , शकुंबरि माता ,कालका माता ,नैना देवी ,चिंतपूर्णी mata) जोट के रूप में माँ को मिलती है |

 इसको देखना के लिया श्रद्धालु बहुत दूर दूर से आते है |माना जाता  है धर्मी अथवा भाग्यशाली  पुरष तथा स्त्रीो को दर्शन प् सकते है माँ कि कृपा से | है | तात्पर्य सभी को दर्शन नहीं होते |श्री चिंतपूर्णी  देवी धाम| Shree chintpurni devi  dham 

mata chintpurni temple भक्त माईदास का प्रसंग:-

इसके अलावा, पंडित माई दास मां छिन्नमस्ता के एक प्रसिद्ध भक्त थे और एक दिन तक उनकी पूजा करते थे जब तक उन्होंने उन्हें अपना दर्शन नहीं दिया। हालांकि इस जगह को छाब्रोह कहा जाता था, हालाँकि जब से माँ ने आकर पंडित माई दास को उनके सभी तनावों से मुक्त किया, यह स्थान चिंतपूर्णी के नाम से अधिक लोकप्रिय हो गया।

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *