Home » जय जगदीश हरे आरती Om Jai Jagdish Hare aarti lyrics

जय जगदीश हरे आरती Om Jai Jagdish Hare aarti lyrics

  • Aarti
जय जगदीश हरे आरती Om_ Jai_Jagdish_Hare_aarti _

जय जगदीश हरे आरती Om Jai Jagdish Hare aarti lyrics—यह आरती पं. श्रद्धाराम फिल्लौरी द्वारा सन् 1870 में लिखी गई थी! इस आरती भागवान विष्णु की स्तुति की गई है ! भक्तो का माननाहै की भगवन विष्णु की इस आरती से अति पर्सन होते है ! जायदातर तर धार्मिक स्थलों पर यही आरती का गायन होता है! भगवन के समक्ष आरती करने से भगवन विष्णु अति परसन होते है

जय जगदीश हरे आरती Om Jai Jagdish Hare aarti lyrics

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ।

जो ध्यावे फल पावे,
दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का ।
सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,
कष्ट मिटे तन का ।
ॐ जय जगदीश हरे.

मात पिता तुम मेरे,
शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।
तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा,
आस करूं मैं जिसकी ।
ॐ जय जगदीश हरे..

तुम करुणा के सागर,
तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता ।
मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी,
कृपा करो भर्ता।
ॐ जय जगदीश हरे..

तुम हो एक अगोचर,
सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय,
तुमको मैं कुमति ।
ॐ जय जगदीश हरे..।

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,
ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे ।
अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ,
द्वार पड़ा तेरे ।
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥


विषय-विकार मिटाओ,
पाप हरो देवा,
स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
सन्तन की सेवा ।

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ।

जय_जगदीश_हरे_आरती_ Om_Jai_ Jagdish _Hare_ aarti_ lyrics

Om Jai Jagdish Hare aarti lyrics

Om Jai Jagadish Hare
Swami Jaya Jagadish Hare
Bhakta janon ke sanka

Bhakta janon ke sankat Kshan me door kar
Om Jai Jagadish Hare

Jo dhyave phal paave
Dhukh vinashe man ka
Swami dhukh vinashe man ka
Sukha sampati Ghar aave
Sukha sampati Ghar aave
Kashht mite tan ka
Om Jai Jagadish Hare

Mata pita tum mere
Sharan padun mai kis ki
Swami sharan padum mai kis ki
Tum bina aur na doojaa
Tum bina aur na doojaa
Asha karun mai kis ki
Om Jai Jagadish Hare

Tum pooran Paramatma
Tum Antaryaami
Swami Tum Antaryaami
Para brahma Parameshwara
Para brahma Parameshwara
Tum sab ke Swami
Om Jai Jagadish Hare

Tum karuna ke saagar
Tum palan karta
Swami Tum palan karta
Mai sevak tum swaami
Mai sevak tum swaami
Kripa karo bhartaa
Om Jai Jagadish Hare

Deena bandhu dukh hartaa
Tum rakshak mere
Swami tum rakshak mere
Apane hast uthao
Apane hast uthao
Dwar khada mai tere
Om Jai Jagadish Hare

Vishaya vikar mithao
Paap haro deva
Swami paap haro deva
Shraddha bhakti badhao
Shraddha bhakti badhao
Santan ki seva
Om Jai Jagadish Hare

Tan man dhan sab kuch hai tera
Swami sab kuch hai tera
Tera tujh ko arpan
Tera tujh ko arpan
Kya laage mera
Om Jai Jagadish Hare

Om Jai Jagadish Hare
Swami Jai Jagadish Hare
Bhakta janon ke sankat
Bhakta janon ke sankat
Kshan me door kare
Om Jai Jagadish Hare

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *