Skip to content
Home » जय जय सुरनायक | Jay Jay Surnayak Lyrics

जय जय सुरनायक | Jay Jay Surnayak Lyrics

जय जय सुरनायक | Jay Jay Surnayak Lyrics :-> सुंदर स्तुति बहुत ही सुंदर आवाज। आज समय आ गया है की हर सच्चे मनुष्य को सच्चे ह्रदय से यही प्रार्थना करनी चाहिए। प्रभु का आगमन हो और एक बार फिर से रामराज्य स्थापित हो। जय श्री राम। जय हनुमान।

जय जय सुरनायक | Jay Jay Surnayak Lyrics

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता।
गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता।।

पालन सुर धरनी अद्भुत करनी मरम न जानइ कोई।
जो सहज कृपाला दीनदयाला करउ अनुग्रह सोई।।

जय जय अबिनासी सब घट बासी ब्यापक परमानंदा।
अबिगत गोतीतं चरित पुनीतं मायारहित मुकुंदा।।

जेहि लागि बिरागी अति अनुरागी बिगतमोह मुनिबृंदा।
निसि बासर ध्यावहिं गुन गन गावहिं जयति सच्चिदानंदा।।

जेहिं सृष्टि उपाई त्रिबिध बनाई संग सहाय न दूजा।
सो करउ अघारी चिंत हमारी जानिअ भगति न पूजा।।

जो भव भय भंजन मुनि मन रंजन गंजन बिपति बरूथा।
मन बच क्रम बानी छाड़ि सयानी सरन सकल सुर जूथा।।

सारद श्रुति सेषा रिषय असेषा जा कहुँ कोउ नहि जाना।
जेहि दीन पिआरे बेद पुकारे द्रवउ सो श्रीभगवाना।।

भव बारिधि मंदर सब बिधि सुंदर गुनमंदिर सुखपुंजा।
मुनि सिद्ध सकल सुर परम भयातुर नमत नाथ पद कंजा।।

दोहा: जानि सभय सुरभूमि सुनि बचन समेत सनेह।
गगनगिरा गंभीर भइ हरनि सोक संदेह।।

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.