Skip to content
Home » दिल की हर धड़कन से तेरा|dil kee har dhadakan se tera

दिल की हर धड़कन से तेरा|dil kee har dhadakan se tera

  • Bhajan
दिल_की_हर_धड़कन_से_तेरा_dil_kee_har_dhadakan_se_tera

दिल की हर धड़कन से तेरा|dil kee har dhadakan se tera :->यह सूंदर भजन KRISHNA PRIYA JI MAHARAJ द्वारा जी गायन किया गया है। इस भजन के द्वारा की महिमा गायन की गई है।

दिल की हर धड़कन से तेरा|dil kee har dhadakan se tera

दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है|

जन्मों पे जनम लेकर, मैं हर गया मोहन
दर्शन बिन व्यर्थ हुआ हर बार मेरा जीवन
अब धैर्य नहीं मुझमें इतना क्यों परखता है|

क्या खेल सजाया है मोहरों की तरह हमको
क्या खूब नचाया है कठपुतली सा हमको
यह खेल तेरे न्यारे बस तू ही समझता है|

ये दिल पुकारता है इक बार चले आओ
दर्शन देकर प्यारे मेरी बिगड़ी बना जाओ
मेरे दिल में ओ प्यारे अरमान मचलता है|

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.