Skip to content
Home » Bhari unki aankhon me hai kitni karuna lyrics

Bhari unki aankhon me hai kitni karuna lyrics

  • Bhajan
Bhari_unki_aankhon_me_hai_kitni_karuna_lyrics

भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा
जाकर सुदामा भिखारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

कृपा कितनी करते हैं शरणागतों पे
कृपा कितनी करते हैं शरणागतों पे

बता सकते हैं यदि, बता सकते हैं यदि
बता सकते हैं यदि, मिलेंगे विभीषण

पतितों को पावन, वो कैसे बनाते
जटायु सरिस, माँसाहारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

प्रभु कैसे सुनते हैं, दुखियों की आहें
तुम्हें ज्ञात हो राजा, बलि की कहानी

निराधार का कौन, आधार है जग में
ये प्रश्न द्रुपद दुलारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

छ्मा शीलता उनमें, कितनी भरी है
बताएँगे भृगुजी, वो सब जानते हैं

हृदय उनका भावों का, है कितना भूंखा
विदुर सबरी से, बारी बारी से पूछो

है करामात क्या उनके चरणों की रज
जाकर के गौतम की नारी से पूछो

Bhari unki aankhon me hai kitni karuna lyrics

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.