Skip to content
Home » श्री सीता आरती | Sita Mata Aarti

श्री सीता आरती | Sita Mata Aarti

  • Aarti

श्री सीता आरती | Sita Mata Aarti :-> माता जानकी जी की आरती है इसको सुनने मात्र से भक्तों के हृदय में राम के प्रति भक्तिभाव पड़ता है और  जानकी जी की विशेष कृपा का पात्र बनता है

श्री सीता आरती | Sita Mata Aarti

जगत जननी जग की विस्तारिणी,
नित्य सत्य साकेत विहारिणी,
परम दयामयी दिनोधारिणी,
सीता मैया भक्तन हितकारी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।
सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

सती श्रोमणि पति हित कारिणी,
पति सेवा वित्त वन वन चारिणी,
पति हित पति वियोग स्वीकारिणी,
त्याग धर्म मूर्ति धरी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।
सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

विमल कीर्ति सब लोकन छाई,
नाम लेत पवन मति आई,
सुमीरात काटत कष्ट दुख दाई,
शरणागत जन भय हरी की ॥

आरती श्री जनक दुलारी की ।
सीता जी रघुवर प्यारी की ॥

Sita Mata Aarti lyrics

jagat jananee jag kee vistaarinee,
nity saty saaket vihaarinee,
param dayaamayee dinodhaarinee,
seeta maiya bhaktan hitakaaree kee .

aaratee shree janak dulaaree kee .
seeta jee raghuvar pyaaree kee .

satee shromani pati hit kaarinee,
pati seva vitt van van chaarinee,
pati hit pati viyog sveekaarinee,
tyaag dharm moorti dharee kee .

aaratee shree janak dulaaree kee .
seeta jee raghuvar pyaaree kee .

vimal keerti sab lokan chhaee,
naam let pavan mati aaee,
sumeeraat kaatat kasht dukh daee,
sharanaagat jan bhay haree kee .

aaratee shree janak dulaaree kee .
seeta jee raghuvar pyaaree kee .

Read Also- यह भी जानें

Leave a Reply

Your email address will not be published.