Home » बाबा बालक नाथ आरती Baba balak nath Aarti

बाबा बालक नाथ आरती Baba balak nath Aarti

  • Aarti
बाबा_बालक_नाथ_आरती_Baba_balak_nath_Aarti

बाबा बालक नाथ आरती Baba balak nath Aarti—बाबा बालक नाथ जी महादेव के परम भक्त थे अथवा बाबा जी की गिनती ८४ सिद्ध में व होती है और बाबा जी को सिद्ध बाबा बालक नाथ जी के नाम से भी जाना जाता है वैसे तो बाबा जी के भक्त पूरी दुनिया में है

पर उत्तर भारत में बाबा जी को बहुत मान्यता है बाबा जी का मंदिर हिमाचल प्रदेश में हमीरपुर जिला के पास शाहतलाई में स्तिथ है इस आरती में बाबा जी की स्तुति की गई है बाबा जी के सभी मंदिरो में इस आरती का गायन किया जाता है

बाबा बालक नाथ आरती Baba balak nath Aarti

ॐ जय कलाधारी हरे,
स्वामी जय पौणाहारी हरे,
भक्त जनों की नैया,
दस जनों की नैया,
भव से पार करे,
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

बालक उमर सुहानी,
नाम बालक नाथा,
अमर हुए शंकर से,
सुन के अमर गाथा ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

शीश पे बाल सुनैहरी,
गले रुद्राक्षी माला,
हाथ में झोली चिमटा,
आसन मृगशाला ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

सुंदर सेली सिंगी,
वैरागन सोहे,
गऊ पालक रखवालक,
भगतन मन मोहे ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

अंग भभूत रमाई,
मूर्ति प्रभु रंगी,
भय भज्जन दुःख नाशक,
भरथरी के संगी ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

रोट चढ़त रविवार को,
फल, फूल मिश्री मेवा,
धुप दीप कुदनुं से,
आनंद सिद्ध देवा ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

भक्तन हित अवतार लियो,
प्रभु देख के कल्लू काला,
दुष्ट दमन शत्रुहन,
सबके प्रतिपाला ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

श्री बालक नाथ जी की आरती,
जो कोई नित गावे,
कहते है सेवक तेरे,
मन वाच्छित फल पावे ।
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

ॐ जय कलाधारी हरे,
स्वामी जय पौणाहारी हरे,
भक्त जनों की नैया,
भव से पार करे,
ॐ जय कलाधारी हरे ॥

Baba balak nath Aarti

Om Jai Kaladhari Hare,
Swami Jai Paunahari Hare,
Bhakt Janon Ki Naiya,
Das Janon Ki Naiya,
Bhav Se Paar Kare,
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Balak Umar Suhani,
Naam Balak Natha,
Amar Hue Shankar Se,
Sun Ke Amar Gatha ।
OmJai Kaladhari Hare ॥

Sheesh Pe Bal Sunaihari,
Gale Rudrakshi Mala,
Hath Mein Jholi Chimata,
Aasan Mrgashala ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Sundar Seli Singee,
Vairagan Sohe,
Gau Palak Rakhavalak,
Bhagatan Mann Mohe ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Ang Bhabhoot Ramai,
Murti Prabhu Rangi,
Bhay Bhanjan Duhkh Nashak,
Bharathari Ke Sangi ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Rot Chadhat Raviwar Ko,
Phal, Phool Mishri Mewa,
Dhup Deep Kudanun Se,
Aanand Siddh Dewa ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Bhaktan Hit Avatar Liyo,
Prabhu Dekh Ke Kallu Kala,
Dusht Daman Shatruhan,
Sabake Pratipala ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Shri Balak Nath Ji Ki Aarti,
Jo Koi Nit Gave,
Kahate Hai Sewak Tere,
Man Vancchhit Phal Pawe ।
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Om Jai Kaladhari Hare,
Swami Jai Paunahari Hare,
Bhakt Janon Ki Naiya,
Das Janon Ki Naiya,
Bhav Se Paar Kare,
Om Jai Kaladhari Hare ॥

Read Also- यह भी जानें

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *